अपने लोडे का पानी मेरी चूत को पिला दे बहुत गर्मी हो रखी हे उसके अन्दर

कोलेज से ही चुदाई का चस्का था मुझे. मामा जी के साथ स्टार्ट किया था तब से ले के आज तक पता नहीं कितनो के निचे लेटी हूँ मैं! चुदाई में जो मजा हे वो और किसी चीज में नहीं हे! मैंने चार महीने पहले एक नयी कम्पनी ज्वाइन की. मार्केटिंग में होने की वजह से सभी लोगों से काफी बातें होती थी. एक महीने तो काम में सेटल होने में ही निकल गया. तब दयां आया की मैं पिछले एक महीने से नहीं चुदी हूँ! ऐसे में मेरी चूत एक मोटा सा लंड मांग रही थी. पर नए शहर में जानती थी किस को! तब ध्यान आया की ऑफिस में ही किसी को ढूंढा जाए. फिर क्या ऑफिस में सब को नोटिस करना चालू कर दिया मैंने. मैं यु भी काफी तंग कपडे पहनती थी. धीरे धीरे से पेंट्स की जगह स्कर्ट पहनने लगी. मेरे ही डिपार्टमेंट में काम करता था वो. मुझ से दो साल सीनियर था. मैं इंटरनेशनल मार्केटिं संभाल रही थी और वो डोमेस्टिक में हेड था.

हमारे केबिन आमने सामने ही थे और लॉबी के एंड में एक कोपी रूम था. वैसे तो कॉपी निकालने का काम हमारे जूनियर्स करते थे. पर जब से उसके आँखों को अपने चुन्चों पर गड़े देखा है तब से मैं ही कॉपी करना चालू कर बैठी थी. देर तक काम करना हम दोनों की पहले से आदत थी. अब कुछ ज्यादा देर तक बैठने लगी थी मैं. लेट होने पर अक्सर वो ऑफिस लोक करता था. इसलिए जब तक मैं ना जाऊं उसका ऑफिस में बैठना मज़बूरी था. जो वो शायद एन्जॉय भी करता था. उस दिन सब के जाने के बाद मैं अपने केबिन में कम कर रही थी. तभी इंटरकॉम पर उसकी कॉल आई, कोफ़ी पियोगी?

मैंने मस्ती में कहा, आप जो भी पिलाओगे पी लुंगी!

थोड़ी देर में वो दो कप कॉफ़ी ले के मेरे केबिन में आया. मै एक कॉल पर थी. उसको बैठने का इशारा करके मैं टेबल की तरफ ऐसे झुकी की उसे मेरे बूब्स के पुरे दर्शन हो जाए. फिर वो बैठ गया. मैं बात करते करते उठी. तब मैंने स्कर्ट ही पहनी थी. मैं गांड उसकी तरफ कर के कुछ ढूंढने की एक्शन में निचे झुक गई. मैं जानती थी की पीछे उसे मेरे पेंटी के दर्शन हो गए होंगे!थोड़ी देर गांड मटका मटका के फोन पर बात की. फिर जब उसकी तरफ मुड़ी तो अनजान बन के अपने स्कर्ट मैंने ठीक करते हुए कहा, ओह सोरी ध्यान ही नहीं रहा की मैं अकेली नहीं हूँ. हॉप यु डोंट माइंड.

उसने कहा अरे नो नो इट्स ओके, और भी कॉल्स करने हे तो कर लो.

मेरा ध्यान उसकी पनतु के ऊपर गया. वहां पर लंड खड़ा होने की वजह से टेंट बना हुआ था. मैंने कुछ कहा नहीं लेकिन जानबूझ के ऐसे उसके लोडे को देखने लगी जैसे तिरछी नजरों से देख रही हूँ. लेकिन मैं उसे जताना चाहती थी की मैं उसके लंड को देख रही थी.तभी एक और कॉल आ गई और वो उठ के चला गया. उसके बाद तो ऐसे अक्सर होने लगा. ऑफिस में सब के जाने के बाद हम दोनों लेट तक बैठते और कॉफ़ी पीते थे. मैंने अक्सर उसे कुछ न कुछ दिखा देती थी. फिर हम दोनों अब सोफे में आ गए थे टेबल चेयर से. अक्सर मैं उसकी बातों को एन्जॉय करते हुए उसकी जांघ पर फ्रेंडली जेस्चर में हाथ मार देती थी. कभी कभी उसके लंड को महसूस भी कर लेती थी. फिर गलती से हाथ पेनिस पर चला गया हो वैसे उसे सोरी भी कह देती थी. वो सब समझ रहा था पर मेरे इस बिहेवियर से परेशान था. मैं रोज उसे एक्साइट करती थी फिर कॉफ़ी के लिए थेंक्स कह के अपने काम में लग जाती थी.

उस दिन हम दोनों मिल के एक रिपोर्ट के ऊपर काम कर रहे थे. एसी खराब होने की वजह से काफी गर्मी लग रही थी. उसने अपनी कोट उतार दी और चेयर के ऊपर रख दी. और ताई निकाल के अपनी शर्ट के ऊपर के दो बटन भी खोल दिए ताकि कम गर्मी लगे. मैंने ये सब देख के अनदेखा सा कर दिया.तभी वॉचमैन ने आक के कहा, साहिब मैं जा रहा हूँ, एसी थोड़ी देर में ठीक हो जाएगा. उसने कहा, ठीक हे जाओ तुम लेकिन उन्हें कहो की एसी जल्दी से ठीक करें.

वॉचमैन के जाते ही मैंने भी अपना कोट उतार दिया. उसके निचे मैंने एक टेंक टॉप ही पहना हुआ था. जो मेरे 38 इंच के चुचों को संभाल नहीं पा रहा था, फिर बिना उसकी तरफ देखें मैंने दधिरे से अपने बालों को कंधे को बाँधने की कोशिश शरु की. मैंने बार बार उन्हें संभालती. ये देख कर उसने कहा, खुले रहने दो, काफी अच्छे लगते हे! मैंने उसे एक स्माइल दी और अपन काम शरु कर दिया, थोड़ी देर में मैंने यहाँ काफी गर्मी हो रही हे. हम मेरे केबिन में चलते हे कम से कम वहाँ की खिड़की से तो कुछ हवा आएगी. उसने सारे पेपर्स लिए और मेरे केबिन की तरफ चल दिया

वो दरवाजे पर ही मेरा इन्तजार कर रहा था. मैंने झुक के धीरे से अपनी स्टोकिंगस निकालनी शरु की. काफी गर्मी लग रही थी. बस पांच मिनिट में आती हूँ मैंने उसे ऐसा कहा. वो मेरी केबिन की तरफ चला गया वहां जा के काम करने की जगह वो मुझे ही देख रहा रहा. मैंने अपनी स्टोकिंगस निकाली. उसकी तरफ खड़े हो के अपनी बेल्ट  उतारी और अपने टॉप को ठीक करने लगी. जब मैं आई तो पेपर्स की तरफ देखने लगा. मैंने चेइर की जगह सोफे पर बैठी. उसे कहा की यहाँ बैठते हे, विंडो यही हे.

हमने जल्दी से सारे पेपर्स पुरे किए. इसी बिच में वो पेपर्स उठाने के बहाने से बार बार मेरे चुन्चो को टच कर लेता था. मैं उसे अनदेखा कर रही थी. एक रिपोर्ट में कुछ डाउट पूछने के बहाने से मैं उसे एकदम सट के बैठ गई. और अपना हाथ भी उसकी जांघ के ऊपर रख दिया. मैं सवाल कर रही थी. उसने अपने आप को इस तरह से मेरी तरफ झुकाया की मेरा हाथ ठीक उसके लौड़े के ऊपर था. और मेरी चुन्ची उसकी छाती को छूने लगी थी. मैंने अनजान बनते हुए धीरे से अपना हाथ हटाया और उठते हुए कहा मैं इन पेपर्स की कोपी बना लेटी हूँ और कॉपी रूम में चली गई. बहार जाते हुए जब पलट के देखा तो वो मुझे एंड तक देखते हुए अपने लौड़े को सहला रहा था. मैं स्माइल दे के चली गई कॉपी लेने के बाद मुझे एक शरारत सी सूझी. मैं हमेशा कॉपी रूम में ही चुदना चाहती थी. अब इस से अच्छा मौका और नहीं मिल सकता था.

मैंने उसे पुकार कर कहा की ज़रा मेरी हेल्प कर दो. जब वो आया तो उसके शर्ट बहार थी पेंट से और उसकी बेल्ट खुली हुई थी. मैंने उसके लौड़े को देखते हुए पूछा सब ठीक तो हे ना? वो झेप गया और मैं कॉपी मशीन की तरफ मुहं कर के हसंने लगी.

वो धीरे से मेरे पीछे आ खड़ा हुआ. धीरे से मेरे करीब आ गया. उसका खड़ा हुआ लंड मेरी गांड में घुस रहा था जैसे. मैंने भी अपनी गांड को उसके लौड़े के उपर दबा दी.उसने मुझे कमर से पकड के अपने पास खिंच लिया और अपना लौड़ा वो मेरी गांड के ऊपर रगड़ने लगा, उसके हाथ मेरे टॉप को खिंच के निचे करने लगे. अब मेरे चुंचे उसके हाथ में थे. वो उन्हें जोर जोर से दबा रहा था.

मैंने पलट के उसे चूमना चालू कर दिया. वो पागलों की तरह मेरे होंठो को चूस रहा था. उसकी जबान मेरी जबान से खेल रही थी. उसकी विशाल बॉडी मुझे दबोच रही थी. और ये सब में मुझे भी बहुत ही मजा आ रहा था.धीरे से मेरे होंठो को छोड के वो चुन्ची की तरफ बढ़ा. उसने एक भूखे बच्चे की तरह मेरे चुचों को चुसना चालू कर दिया. वो उन्होंने मस्त चुस्ता गया. निपल्स को काटने भी लगा. हाय रे कितना प्लीजर फिलिंग हो रहा था मेरे को.

मैंने उसके सर अपने चुन्चो में दबा दिया उसने मुझे ऐसे उठा के साइड में टेबल पर लिटा दिया और पुरे जोर से अपने लौड़े को मेरी चूत पर रगड़ते हुए मेरे चुचें चूसने लगा. उसका एक हाथ मेरी स्कर्ट को खोलने में लगा हुआ था.और मैं धीरे से उसकी ज़िप खोलके उसके लौड़े को निकाल रही थी. बाप रे उसका लंड तो गोधे के लौड़े जैसा था. अपनी चूत की हालत सोच के मैं एक मिनिट के लिए डर ही गई. पर मोटे लौड़े लेने का मज़ा कितना होता हे वो सोच के मेरी चूत गीलीं हो चुकी थी. उसकी एक ऊँगली अब मेरे दाने को सहला रही थी और मैं उसके बड़े लोडे को हिला रही थी. उसने इतनी जोर से मेरी पेंटी को निचे खिंचा की वो फट गई. पर सब कुछ भूल के वो बस मेरी चूत सहलाने में लगा था. मैं तो जैसे मजे से मरी जा रही थी.

झड़ने ही वाली थी की उसे दूर धकेल के निचे उतर कर मैंने उसके लोडे को अपने मुहं में ले लिया. और उसका लंड इतना बड़ा था की मेरे मुहं में पूरा आ नहीं रहा था. मैंने उसे जोर जोर से चाटना चालू कर दिया. खूब हिलाती खूब चाटती, सच में बड़ा मजा आ रहा थे इस बिग कोक को सक करने में.वो भी अपनी गांड हिला हिला के मेरे मुहं को चोद रहा था. म्सिने उसके अन्डो को मुहं में ले लिया. वो मजे से चीख पड़ा और बोला, चाट लौड़े को और चाट मेरे अन्डो को साली छिनाल कितने दिनों से मुझे गरम कर रही थी आज तेरी चूत का चुतपुर कर दूंगा!

उसके मुहं से ये सब सुनके मुझे तो मजा आ रहा था. उसके लौड़े की नसें टाईट होने लगी थी. तो मैं समझ गई की वो झड़ने को हे. मैंने उसे कहा बोलो कहाँ निकालना हे अपने माल को. उसने मेरे बाल पकडे और अपने लौड़े मेरे मुहं में पूरा डाल के हिलाना चालू कर दिया. थोड़े ही धक्को में सारा माल निकल के मेरे मुहं को भरने लगा था. और मैंने उसके माल की एक एक बूंद को चाट लिया. उसने मुझे वापस टेबल के उअप्र लिटाया और मेरी चूत अपने मुहं में ले ली. मेरी मुनिया वैसे ही पानी पानी थी अब तो मैं पागल हो रही थी जैसे!

उसे अच्छी तरह से पता था की एक औरत की भूख को कैसे मिटाते हे. मैं चीखी जा रही थी वो अनसुना कर के मुझे चाटता रहा, और मेरे चूत के दाने को अपनी जबान से काट भी रहा था. मैं पुरे जोर से उसके मुहं में ही झड़ गई. वो सब पी गया. फिर उसने अपना लोडा मेरी चूत के मुहं पर रख के रगड़ना चालू कर दीया.मैं फिर से हिली होने लगी. मैं तैयार होती उसके पहले ही उसने पुरे जोर से अपना लोडा मेरी चूत में दे मारा. दर्द से मेरे तो आंसू निकल पड़े. पर उसने तो जैसे पागल हाथी की सवारी कर रखी थी. कुछ सुन ही नहीं रहा था ना ही वो मेरे पेन को देख रहा था.

बस चोदते जा रहा था. उसका एक एक झटका मेरी जान ले लेता था. थोड़ी देर बाद मेरी चूत ने उसके मोटे लोडे के लिए पूरी जगह बना ली. फिर क्या था हम दोनों पूरी रफ़्तार से चुदाई का मजा ले रहे थे. उसने मुझे गोद में बिठा लिया जिस से उसका लोडा मेरी चूत के अन्दर तक मारने लगा था. मेरी चूत का भोसड़ा बना दे, और जोर जोर से चोदो, अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह आज अपने लंड से मेरी पुसी की भूख को मिटा दो. मैं चुदासी हो के उसे उकसा रही थी हार्ड फकिंग के लिए.

वो भी बोला, ले छिनाल ले मेरे घोड़ी को अपनी चूत में डलवा ले और भोसड़ा बनवा ले तेरी चूत का!

मैंने उचक उचक के चुद रही थी.

वो बोला, मेरा वीर्य छूटेगा, कहा लेना हे तुझे छिनाल.

मैंने कहा, अपने लोडे का पानी मेरी चूत को पिला दे बहुत गर्मी हो रखी हे उसके अन्दर.

और फिर कुछ ही पलों में हम दोनों एक साथ ही झड़ गए. उसके लंड से बहुत सारा पानी निकला और मेरी चूत भर गई.

कुछ देर हम एक दुसरे से चिपक के लेटे रहे. और फिर उसका लंड फिर से खड़ा हो गया, अब की उसने मुझे घोड़ी बनाया और पीछे से अपना घोड़े जैसा बड़ा लंड मेरी चूत में डाला. गर्मी और चुदाई की गर्मी की वजह से हम दोनों पानी पानी हो गए थे.उसने मुझे घोड़ी बना के चोदा और बोला, आज रात को घर नहीं जाने दूंगा तुझे छिनाल. रात भर यही ऑफिस में तू मेरी रंडी बनी रहेगी. सुबह में जल्दी घर जायेंगे. मेरे इरादे भी कुछ ऐसे ही थे!!!!

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age


Online porn video at mobile phone


Sexy Hindi Kahani dirabig sikhate smay aantiअधेरे मे पापा का लड ले लियाsex stories allhindi sex story sasur bahugarma garam kahaniindiansexstorieamajdoor s chudi maa hindi sex storyमम्मी को फार्म हाउस में दोस्तों के साथ चोदाhindi sexy storeisbua ki chudai hindipadosan ki chudai antarvasnafull hindi sex storyभाभी जी आज तो मुझे भी देदो चुतpriyanka ki chudai kahanidost ki biwi ki chudaibada land rich sethani hindi kahanimazdoor ki chudaigay chudai ki kahaniindian sex story hindi meinchudai ke chutkule in hindiतीती म दो लैंड गलता वीडियोjawan saas ki chudaiकच्ची कली की कच्ची उम्र 14 साल मेँ सिल तोडीchoti behan lund choosne Mein expertभाई ने बहन को चुदते हुए पकड़ाbhai ka lund chusacar sikhate chudaibaheno ki chudaisasur bahu chudai ki kahaniहिंदी।बार।बाली।चुतxxxsex story only hindisexyhindikahaniyachachi ki chodai kahanisex stories in hindi to readsoti hui maa ki chut me ungli ki sex story in Hindisex stories in hindi with picssaas ki chudai ki storiesचाची व उसकी बहन के बुब्स देखकर चुदाई कीantarvasa comsex story with chachi in hindimuslmai खान की गांड मारीdesipornkahanimaaUi MA fat gai chut Hindi kamuktaafrican ne chodaXXX कहाँनियाbete ki gand maribhai ka mota landXxx indian ladki ki car mme jabarjashtibap beti sex kahaniशादीशुदा बहन भाई की चुदाईअम्मी और भाईजान के साथ चुदाईauntysexstorymaa ke saath adult movie theatre mein hindi sex storiesdesi incest stories in hindihindi font chudai kahanirasile boob kahaniDesi kahani bhikharan auntyहोली पर गंद मरवाईसास क्र भोसरे में मेरा मोटा लौरा चाहिएbhabhi ne doodh pilayahindi sex storey comबङे लंड से चुद कर मजा आ गयाporn stories in hindi languagemeri sgi bua ki bdi gand mari bua ke gar me xxx stori hindi mebhabhi ke sath bathroom me kiya sex jb blackmail kiya tb mai 16 sal ka tha hindi kahanisex story in hindi latestpriyanka ko chodamaa ki chudai in hindi storyantatvasna comlatest real sex stories in hindimousi ka chudayi sapna sach kiyafree indain desi hinde sex store maa ne bete se karayhchut ka bhosda bana diyakhala ki chudai kahanichachi ko maa banayaboss ki wife ko chodadidi ki mahawari kamukta kahanisexstorieshindichudakad maasasur ne bahu ki gand mariचुदाई पापा सेsex story incest hindichachi ki kahaniaunty ki gand par lund lagayaerotic sex stories in hindihindi sex latest storyपापा ने चुची को चुसा कोमfamily sex story hindibua ki malishxexy hindi storyhindi gay porn storiesvillage sex kahanidesi porn kahanichoti behan ki chutreal incest stories in hindi